Friday, February 5, 2010

त्रिवेणीनुमा-२



बदन-ए-ग़र्द में, मैं जड़ पकड़ता जा रहा हूँ
मैं खुद किरदार की
पहचान बनता जा रहा हूँ

हूँ
असीर-ए-उम्र आलम का, ये जाँ छूटे, क़रार आये।

(बदन--गर्द: मिट्टी का शरीर; असीर--उम्र: उम्रकैदी; आलम: दुनिया)



*-*-*-*-*

होंठ सुलगे जो मेरे, आग ज़माने में लगी
फिर से इक उम्र, ‌सवालात्‌ बुझाने मे लगी

उसनाम--आतिश का ज़ुबाँ से मेरी, रिश्ता क्या है?


*-*-*-*-*

मुझसे छुपा के,
उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

गूगलको तेरे नाम का, चेहरा नही पता

*-*-*-*-*

सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
शार्पनरसे बार-बार नोकीला भी किया उसे

और
छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!


(चित्र- विक्टर वासरली-ऑप्टिकल आर्ट)

56 comments:

  1. मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता

    -वाह!!


    और फिर

    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!

    -बहुत खूब ढाला है आज को!! बेहतरीन!

    ReplyDelete
  2. सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!
    भई वाह..

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत ही अच्छे! खास तौर से गूगल वाली त्रिवेणी।

    ReplyDelete
  4. सुंदर शब्द और गहरे भाव व्यर्थ हो जाते हैं यदि सरस्वती की कृपा नहीं होती. जहाँ तीनों हों, वहीं त्रिवेणी बनती है.
    यहाँ, त्रिवेणी का अद्भुत नज़ारा देखने को मिला. ऐसा मनोहारी शब्द-चित्र कम ही देखने को मिलता है.

    बदन-ए-ग़र्द में, मैं जड़ पकड़ता जा रहा हूँ
    मैं खुद किरदार की पहचान बनता जा रहा हूँ

    हूँ असीर-ए-उम्र आलम का, ये जाँ छूटे, क़रार आये।
    ...वाह!

    ReplyDelete
  5. मैं हमेशा अच्छी रचना पढ़कर ये सोचने लग जाता हूँ कि क्या टिप्पणी करूँ

    ReplyDelete
  6. जानलेवा...

    मैं भी एक उम्र से अँगुलियों को दुःख देता हूँ और रज़िया बेग़म नाम की अपनी कोई दो दशक पुरानी दोस्त को खोजता हूँ गूगल कई चेहरे दिखाता है पर वो उसमे नहीं होती. अभी कुछ समय पहले अम्बाला के जवाहर नवोदय विद्यालय में प्राचार्य थी. मेरी खोज घोंघे की रफतार से है और दुनिया में भीड़ बढ़ती जा रही है. अपूर्व के लाख दीवाने है तो सोचा कि शायद यहं कोई उनको जानने वाला आ जाये तो मेरी रूह को आराम मिले.

    हाय आराम... तूं इतना बेचैन होकर फिरता है ये तेरे नाम पे धोखा है. भाई त्रिवेणियां गजब है. कल मैं भी रज़िया के लिए कविताए लिखू तो पढ़ने जरूर आना, कविता रहने देते हैं कहानी ठीक रहेगी. जिसका काम उसी को साजे...

    ReplyDelete
  7. इतनी मार्मिक है कि सीधे दिल तक उतर आती है।

    ReplyDelete
  8. मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।


    कसम से ....हम तो पहले कन्फेस कर चुके है के लोग पुरानियो को गूगल की खिड़की के सहारे खोजते है ....त्रिवेणी एक दम झकास है...पूरी कम्प्लीट .....
    *-*-*-*-*

    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!


    पंच मारा है मेरी जान .....ओर एक दम ठीक.....

    ReplyDelete
  9. दूसरी और तीसरी त्रिवेणी खास तौर पर पसंद आई।

    ReplyDelete
  10. मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।

    wah , bahut khoob.

    ReplyDelete
  11. त्रिवेणी का शिल्प नहीं जानता , सो क्या कहूँ ..
    हाँ जो भी लिखा है 'अपूर्व-छटा' बिखेर रहा है ..
    सब एक से बढ़कर एक हैं पर यहाँ तो गजब ही है ---
    ''सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !! ''
    .
    तारीफ के लिए शब्द नहीं हैं मित्र ...

    ReplyDelete
  12. ये तो 'गूंगे का गुड़' है मेरे लिए ...खा तो ले पर बता न पाए

    ReplyDelete
  13. जनाब,
    ......छीलते-छीलते खत्म हो गई जिन्दगी...|
    बहुत खूब लिख गये भाई अपूर्व जी।

    ReplyDelete
  14. बिलकुल तुम्हारे नाम के अनुरूप!:-)

    ReplyDelete
  15. दुरुस्त फरमाया आपने.

    ReplyDelete
  16. अपूर्व,
    अब तो दफ अतन की पोस्ट का इन्तजार करने लग जाता हूँ...बहुत नशीला लिखते हो...पहली दो त्रिवेनियाँ तो जानलेवा बन पड़ी है...शब्दों की खूबसूरती नजाकत और पिरोने का अंदाज लाजवाब है...तीसरी और चौथी त्रिवेणी में गूगल और शार्पनर कर प्रयोग अनूठा है...पर उतनी प्रभावोत्पादक नहीं है जितनी पहली दो है...हालाँकि उनकी श्रेष्ठता में कोई कमी नहीं है...बस जब भी पहली दोनों से तुलना होती है तो ही ऐसा लगता है...हालाँकि लोगों को इस अनूठे शब्दों के प्रयोग के लिए खूब पसंद आएँगी...

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. गोया आज की सुबह ही हसीन है. कातिल भी... सबने seduce किया है... त्रिवेणी की आज नब्ज़ पकड़ी है... क्या गज़ब चीज़ होती है... ऐसे में डॉ. अनुराग आपको मेरी जान बुला लें तो कोई गलत नहीं मेरी जान... मैंने लिख ली सारी त्रिवेनियाँ...

    ReplyDelete
  19. पहली बार त्रिवेणी इतनी अच्‍छी लगी हैं ...
    गूगल को तेरे नाम का चेहरा नहीं पता ये सही बात है , जिसको ढूंढो उसके अलावा सबका चेहरा दिखाता है ।

    ReplyDelete
  20. मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।


    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!

    जिंदगी की हक़ीकत से जुड़ी त्रिवनियाँ हैं .......... आपका अंदाज़ आपको एक अलग पहचान देता है ....

    अपूर्व जी ... आप बहुत बहुत समय बाद लिखते हैं जबकि हमें आपकी रचनाओं का इंतेज़ार रहता है ..... जल्दी जल्दी आया करें ........

    ReplyDelete
  21. हर त्रिवेणी पे अलग से कुछ कहा नहीं जा रहा.काफी सर खुजाया पर अफ़सोस के सभी अच्छी है के सिवा कुछ लफ्ज़ नहीं सूझे.इसलिए सोचा कम बोलने में ही भलाई है.

    बात कम कीजे ,जहानत को छुपाते रहिये..

    ReplyDelete
  22. मुझे ये शिल्प अच्छा लगा,पहले जब अपने प्रिय पतों पर इस शिल्प में कुछ देखा है तो तीसरी लाइन तक आते आते सच में किसी जानलेवा की उम्मीद में दिल धड़कता है.

    जिंदगी के कुछ अमूर्त या हर वक्त शब्दों की बाट जोहते भावों को इस अंदाज़ में पेश करने से उसका शब्दातीत होना खंडित नहीं होता.एक कवि के लिए ये निर्वाह भी ज़रूरी है.

    बहुत मन के पास.

    ReplyDelete
  23. har triveni jaanleva...
    होंठ सुलगे जो मेरे, आग ज़माने में लगी
    फिर से इक उम्र, ‌सवालात्‌ बुझाने मे लगी

    ’उस’ नाम-ए-आतिश का ज़ुबाँ से मेरी, रिश्ता क्या है?
    wah!

    ReplyDelete
  24. बदन-ए-ग़र्द में, मैं जड़ पकड़ता जा रहा हूँ
    मैं खुद किरदार की पहचान बनता जा रहा हूँ

    हूँ असीर-ए-उम्र आलम का, ये जाँ छूटे, क़रार आये।
    yah behatareen hai...
    baki triveniyaan ekdam nayee si hain. jise khojna hai vah google ki zad mein nahin aur pencil sharp karne ka bhi fayda nahin.

    ReplyDelete
  25. कल पढ़ा था देर रात गये। ...तब कुछ कह नहीं पाया,अभी भी कुछ कहना संभव नहीं जान पड़ रहा है। नई विधा है और अंदाज़े-बयां भी बिल्कुल नया है...लेकिन जो भी है, है कातिलाना।

    ReplyDelete
  26. सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!


    bahut hi umda

    ReplyDelete
  27. अब कहने को क्या बचा है सरकार!! २ -३ बार और पढ ले तो सुकू आये...

    ReplyDelete
  28. अब आ भी जाइये हुज़ूर!!!!!

    ReplyDelete
  29. ए. आर. रहमान के संगीत की तरह इस पहली त्रिवेणी का नशा धीरे - धीरे चड़ने वाला है,
    और फ़िर उतरे कब? ये जान छूटे तो करार आये...

    मेरी Personal प्रिय दूसरी वाली....
    होंठ सुलगे जो मेरे, आग ज़माने में लगी
    फिर से इक उम्र, ‌सवालात्‌ बुझाने मे लगी

    ’उस’ नाम-ए-आतिश का ज़ुबाँ से मेरी, रिश्ता क्या है?


    रिश्ता तो पता नहीं पर दो बातें, एक तो बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी, हमने देखा है तजरुबा करके.... , और दूसरी वो नाम भी 'Self Destructive' आग ही होगी....
    वाकई ये मेरी rash driving ही थी जो सबसे बेह्तेरिन २ त्रेवेनियों के ऊपर ज़ल्दी में कुछ कह दिया...

    ३)"तेरे नाम का चेहरा" ये वाक्यांश एक बहुत अलग तरीके से दिमाग में होंट करता है, 'गुलज़ाराना'
    ....इश्वर maybe?

    4)और सच बताऊँ?
    चौथी वाली में 'ए' (फॉर अपूर्व) Factor मिसिंग है...
    अरे यही तो तो ए. र. रहमान के 'chiyaan -chaiyaan' की तरह 'instant hit. थी.

    ReplyDelete
  30. कुछ मीठा हो जाये....
    १) आपकी दूसरी त्रिवेणी को लिए जा रहा हूँ...
    २) बेहतरीन अभिव्यक्ति बधाई.
    ३) ufffffffffffffffffffffffffff ......
    ४) निशब्द...
    ५) Nice !!
    ६)सागर जी और अनुराग जी की टिप्पणी को मेरी भी मानी जाये.
    जोक्स अपार्ट जोक....
    वापिस आता हूँ...

    ReplyDelete
  31. निशब्द कर देने वाला है हर लफ्ज़ ..बहुत देर तक आज सिर्फ आपका ही ब्लॉग पढ़ा अब इसके बाद और कुछ पढने का दिल नहीं हो रहा .शुक्रिया

    ReplyDelete
  32. आपने हो सकता है बताया हो कि आप कहाँ हैं...पर मुझे नहीं पता
    या तो जल्दी लौटें या बताएं कि कहाँ हैं ???

    ReplyDelete
  33. मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।


    अपूर्व जी जो बहुत सारी गूगल ने ढूढी ...उन्हीं में से जो सबसे प्यारी सी लगे मेरी ओर इनाम स्वरूप ....इन शानदार त्रिवेनियों के लिए .......!!
    *-*-*-*-*

    *-*-*-*-*

    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    मीना कुमारी की शायद एक पंक्ति है ..
    ".ज़िन्दगी घड़ के देख ली हमने मिट्टी गारे की इक मूरत है "
    कमबख्त ये छिलते छिलते ही तो खत्म हो जाती है ......और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!

    ReplyDelete
  34. चौथी त्रिवेणी पढ़ कर एक एस ऍम एस याद आ रहा है (एवें ही) :
    "ज़िन्दगी में इतनी गलतियाँ न करो की पेंसिल से पहले इरेज़र ख़त्म हो जाये."
    फ़िर गौतम सर की बात....
    "वो कौन है जिन्हें...."
    बहरहाल नया हो जाये कुछ अब?

    ReplyDelete
  35. होली की बहुत-बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  36. सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!

    waah! Waah!! Waah!!!

    sabhi triveniyan bahut achchee hain.

    ReplyDelete
  37. अपूर्व जी ....
    आपको और परिवार में सब को होली की मंगल-कामनाएँ ....

    ReplyDelete
  38. ओह...... यहाँ गूगल भी है !!!

    ReplyDelete
  39. अद्भुत और अपूर्व है बन्धु !
    'त्रिवेणियाँ' मेरी लम्बी अनुपस्थिति में स्क्रीन पर चमकी होंगी और परदे के पीछे चली गईं ! आज 'दफ्तन' पर जा पहुंचा तो नज़र पड़ी ! हतप्रभ रह गया हूँ उन्हें पढ़कर--ये शब्द-शिल्प, ये सौष्ठव ! क्या बात है !! मंत्रमुग्ध हूँ ! 'बधाई' कम पड़ रही है, क्या लिखूं ? आपको 'आशीष' भेजने की हिमाकत कर सकता हूँ क्या ??
    सप्रीत--आ.

    ReplyDelete
  40. बदन-ए-ग़र्द में, मैं जड़ पकड़ता जा रहा हूँ
    मैं खुद किरदार की पहचान बनता जा रहा हूँ

    हूँ असीर-ए-उम्र आलम का, ये जाँ छूटे, क़रार आये।
    Pahli baar aayi hun aapke blogpe aur nishabd hun..

    ReplyDelete
  41. सुन्दर प्रस्तुति....बधाई !!
    ______________
    सामुदायिक ब्लॉग "ताका-झांकी" (http://tak-jhank.blogspot.com)पर आपका स्वागत है. आप भी इस पर लिख सकते हैं.

    ReplyDelete
  42. ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।
    Bhai wah.. ! Apne type ke aadmee lagte ho sahab.
    Behtareen rachna.

    ReplyDelete
  43. तीन बार पढ़ चुका हूँ इस बीच ....

    कुछ और लगाओगे कि नहीं?

    ReplyDelete
  44. ..और फोन पे इतनी देर से किसके संग व्यस्त हो?

    ReplyDelete
  45. @गौतम सर अपूर्व के ऊपर शक (मत) करें . वो मुझसे बात कर रहे थे.
    और हाँ !! अब हम दोनों के ऊपर शक मत करें.
    :)



    @ अपूर्व भाई इससे पहले कि आप भूलें कि आप इंसान से पहले एक ब्लॉगर हैं एक नयी पोस्ट डाल दें.
    नहीं नहीं वैसे मुझे तो ख़ुशी ही होगी आपकी पोस्ट नहीं आएगी तो, लोग हम जैसों के ऊपर भी टाइम देंगे...
    तो कोई बात नहीं मैं ४-५ महीने और इंतजार (ख़ुशी ख़ुशी ) कर लूँगा.
    वापिस आता हूँ इस उम्मीद के साथ कि अब भी कोई पोस्ट नहीं आई.
    आमीन .
    :D

    ReplyDelete
  46. apoorva ji.....apki lekhan shaili wakai laajawab hai....ek ek alfaaz chhoo lene wala


    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!.....life ki philosopy

    मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।......bebasi.........kya baat hai

    ReplyDelete
  47. dev sahab ...aapne jis anjaad me apoorva ji ki taarif ki h ......ese lagg ra tha ...khud heera apne hi bajaar me heere ki keemat jaanne nikla h.......iss baat se anjaan k vo khud bhi ek Beskeemti heera h...........headz off both or u

    ReplyDelete
  48. होंठ सुलगे जो मेरे, आग ज़माने में लगी
    फिर से इक उम्र, ‌सवालात्‌ बुझाने मे लगी

    ’उस’ नाम-ए-आतिश का ज़ुबाँ से मेरी, रिश्ता क्या है?
    मेरी जुबान से जो सच्ची या तल्ख़ बातें निकली तो जमाने को आग लग गयी मतलब सह नहीं पाए लोग,फिर उनको जवाब देने में मुझे इक उम्र लग गयी.उस आग का और मेरी जुबान का रिश्ता क्या है..

    ReplyDelete
  49. बदन-ए-ग़र्द में, मैं जड़ पकड़ता जा रहा हूँ
    मैं खुद किरदार की पहचान बनता जा रहा हूँ

    हूँ असीर-ए-उम्र आलम का, ये जाँ छूटे, क़रार आये।
    बदन में रूह फिट बैठती जा रही है.अपने किरदार को perfectly play कर रही है,जैसे मुकेश को लोग शक्तिमान के नाम से जानते है .इस उम्र कैद के छूटने से ही करार आयेगा.

    ReplyDelete
  50. बहुत दफा आया और जैसा कि 80% लोग करते है पढ् कर लौट गया कभी कभी दिन मे कई बार.
    पर अबकी आर गूगल वाली त्रिवेनी पढी . यकीन करो इसी लिये यहाँ हूँ. बहुत उम्दा. कहीँ और चल गया हूँ. फिलहाल इस खुमार से निकलूँ तो बातेँ हो ......

    सत्य

    ReplyDelete
  51. Aap ka naam theek hi hai...nahi, sateek hi hai..

    nahi, kuchh aur ho sakta hi nahi tha...Apoorv

    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!

    chupchap rahun...bhala ho mera

    ReplyDelete
  52. "मुझसे छुपा के, उंगलियाँ खोजती हैं तमाम शब
    खुलती हैं हजार खि़ड़्कियाँ, पर उनमें तू नही

    ’गूगल’ को तेरे नाम का, चेहरा नही पता ।


    सोचा था, हर सवाल का लिखेंगे खूबसूरत जवाब
    ’शार्पनर’ से बार-बार नोकीला भी किया उसे

    और छीलते-छीलते ही खत्म हो गयी ...जिंदगी !!"

    क्या कहें बस , कभी गुलज़ार इन्हें पढ़ें तो आपके हाथ चूम लें :-)

    ReplyDelete
  53. Bandhu....
    Loved your ideology.....
    Aapke blog ka pta !next se laga.
    Taarife thi par socha na tha ki itni kam hongi......
    Aapko FACEBOOK pe apni mitr mandali me pesh karne ki izazat chahta hoon....

    Aap likhe aur hame zindagi ke dard,rang se parichit karwate raahe ...
    Sukriya........

    ReplyDelete
  54. Lovely updates,
    mujhe hindi type karne nahi aati (matlab ye nahi ki hindi samajh me nahi aati/hindi padhne ka shauk bhool gaya)
    umar kuch jyada nahi hai meri....
    Pichle mahine 18 ka ho gay.
    Par aapke blog pe aake dil ke sare dard, sare goobar, zindagi ki sari hakiqat nazar me aa jati hain.
    Kisi ek rachna ke baare me kya kahoo, sab lajawab hain.
    Yha to kitne hi bade baithe hai to main chupke se hi aapki rachnaye padh ke nikal leta hoo.
    (Bado ke samne bacche jyada nahi bolte)
    jo bhi ho....
    Lovely
    and waiting for further ones,
    thanks Apoorva Sir.
    For making blogging serious and clean.
    Best of luck.

    ReplyDelete

..क्या कहना है!

Related Posts with Thumbnails